संदीप कुशवाहा

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
साहित्यिक मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय: संदीप कुशवाहा जी का जन्म २६ अप्रैल १९९९ को हुआ, ये मध्यप्रदेश के सतना ज़िले में स्थित ग्राम भड़रा के निवासी हैं | वर्ष २०१९ में स्नातक की पढाई पूर्ण की, इन्हे हिंदी भाषा और हिंदी साहित्य से बेहद लगाव है |

———————————————————–

——————————————————–

ये दुनिया का मंजर रहा न शुहाना,
फूल है अब बहुत कम ,नागफनियो का जमाना।
सबने अपने है उल्लू को सीधा किया,
है कुछ और कहना, है कुछ और करना।
गिरगिटो ने भी है छोड़ा, अपने रंगो को बदलना
उनसे ज्यादा रंग देखो, बदलता है ये जमाना।
मैने पहचाना न अब के,इस सुहाने दौर को
लोग कहते है यहां, इस दौर को हां नया जमाना।
इस दौर मे अपनो के, अपने-पन का बिल्कुल न ठिकाना
स्वार्थ है जब तक, तभी तक है यहां पर दोस्ताना।
दौर के इस सफर मे, है मुसाफिर हम नये
पर हमे बेहतर है लगता ,इस डगर से लौट जाना। —— ११ अक्टूबर २०१९

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *