रचनाकार शैलेन्द्र असीम

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
हिंदी साहित्य सेवा मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय:

पिता का नाम : स्व.सूर्यभान पाण्डेय
माता का नाम : श्रीमती द्रौपदी पाण्डेय
पत्नी का नाम : श्रीमती प्रिया पाण्डेय
पुत्रियां : श्रेया पाण्डेय
नव्या पाण्डेय
तन्वी पाण्डेय
जन्म तिथि : 15 फरवरी 1970
शिक्षा : एम.एस-सी., बी.एड., एल-एल.बी.,
25वीं बिहार न्यायिक सेवा हेतु चयनित एवं अनुशंसित

सम्प्रति : प्रवक्ता (जीव विज्ञान)
सुभाष इण्टर कॉलेज बेदूपार (कुशीनगर),
संयोजक, सन्देश – हाटा (कुशीनगर)

दायित्व निर्वहन : पूर्व महामंत्री एवं पूर्व अध्यक्ष (विज्ञान परिषद) दिग्विजयनाथ स्नातकोत्तर महाविद्यालय गोरखपुर

पता : पाण्डेय निवास
रोहुआ मछरगावां (कुशीनगर)
पिन : 274149

मो. 7007947309

विधाएं : गीत, ग़ज़ल, कविता, छन्द, मुक्तक, दोहा, हाइकू, कहानी, यात्रा वृत्तान्त, निबन्ध

सम्मान/पुरस्कार : सृजन श्री, सरस्वती साहित्य सम्मान, हजरत आसी ग़ाज़ीपुरी सम्मान, विश्वजीत सिंह ‘आलोक’ सम्मान, शुभाशंसा सम्मान के साथ भागीरथी सांस्कृतिक मंच गोरखपुर, चेतना मंच बड़हलगंज, अनुमंडलाधिकारी बगहा (बिहार), विप्र धाम देवरिया, संस्कार भारती कुशीनगर, सन्देश हाटा, साहित्य साधना समिति हाटा सहित अनेक संस्थाओं द्वारा समय-समय पर सम्मानित।

प्रकाशित पुस्तक : गीतों के मोरपंख (गीत संग्रह)

रचना प्रकाशन : काव्य धारा, शब्द यात्रा, नई लेखनी, रिसाला-ए-इंसानियत, सन्देशिका, श्रेष्ठ रचनाकारों की रचनाएं, प्रभात, राधा माधव भाव सागर, बइठकी, भोजपुरी माटी, अरावली, सृजन, आंगन की तुलसी जहाँ, अमर उजाला, राष्ट्रीय सहारा (आजकल) आदि पत्र-पत्रिकाओं तथा साझा संकलनों में रचनायें प्रकाशित

सम्पादन सहयोग : काव्य धारा, सन्देशिका

सन् 1983 से मौलिक सृजन
सन् 1991 से कवि गोष्ठियों/सम्मेलनों में रचना पाठ
सन् 2009 से आकाशवाणी द्वारा रचनाओं का प्रसारण

———————————————–

ग़ज़ल

बादल चन्दा तितली फूल समीर नहीं
तुमसे सुन्दर दुनिया की तस्वीर नहीं

जग जीता वह जिसने इसको जीत लिया
दिल से बढ़कर कोई भी जागीर नहीं

धरती से अम्बर तक हमने देख लिया
माँ के जैसा कोई पीर-फकीर नहीं

भारत के वह आदि-अन्त के नायक हैं
काल्पनिक हैं रघुकुल के रघुवीर नहीं

कैसे भूलें राजमुकुट है भारत का
कुछ भी कर लो बाँटेंगे कश्मीर नहीं

जाओ जा कर छिप जाओ फिर गोकुल में
कान्हा तुमसे बढ़ती है अब चीर नहीं

कविता में कैसे संसार ‘असीम’ भरूँ
मैं तुलसी रसखान व सूर कबीर नहीं
© शैलेन्द्र ‘असीम’