रचनाकार विक्रम

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
साहित्यिक मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय: विक्रम जी आगरा के रहने वाले हैं| इनका जन्म १२ अप्रैल १९९७ को गाँव थाना, जिला कुरुक्षेत्र, राज्य हरियाणा में हुआ। जवाहर नवोदय विद्यालय निवारसी ( कुरुक्षेत्र ) से दसवीं और बारहवीं की परीक्षा उतीर्ण की हैं, और गवर्नमेंट कॉलेज पिहोवा ( कुरुक्षेत्र ) से बी.कॉम उतीर्ण की है|

———————————————————

!! शहीद जवानों को समर्पित !!

हमारी आँखों में जो खुशी दिखाई देती है
हमारे दिल में जो धड़कन सुनाई देती है
हमारी साँसों में जो रफ्तार महसूस होती है
ये सब इंडियन आर्मी की मेहरबानी है।।

जितना हम सोचते हैं, उससे ज्यादा करके दिखाते हैं ये
आर्मी में भर्ती होना क्या है, अपनी मेहनत से बताते हैं ये
सारे जहाँ की उम्मीद हैं ये, सारे जहाँ की शान हैं ये
भारत माँ के सच्चे लाल और सच्चे पहरेदार हैं ये।।

14 फरवरी का दिन, हमारे देश के जवानों को ले गया
हकीकत का पता नहीं चला, जबकि एक वर्ष बीत गया
हम कैसे यकीन करें, इस मुल्क की सरकार पर
जब देश के अंदर आकर ही, दुश्मन हमला कर गया।।

हमारे लिए प्यार, मोहब्बत, इश्क़ सब कुछ वतन है
हमारे लिए देश की आन-बान-शान सब कुछ आर्मी है
हम सिर्फ कहते हैं, लेकिन वो सरहद पर करके दिखाते हैं
तभी तो हम उन्हें देश के वीर जवान कहते हैं।।

—————————————————————————————————————

तुम

मेरी हर सांस में बसे हो तूम
मेरी हर याद में समाये हो तुम
मैं कैसे कह दूँ तुम्हें बेवफा
मेरे जीने की वजह हो तुम।।

मेरी खुशी का राज हो तुम
मेरे दर्द का इलाज हो तुम
दुनिया समझेगी नहीं, इसे
मेरे दिल की धड़कन हो तुम।।

मेरी बातों की हकीकत हो तुम
मेरी समस्या का हल हो तुम
मैं तुझे ही सब कुछ मानता हूँ
ए दोस्त, मेरी जिंदगी हो तुम।।

मेरे गीत की तर्ज हो तुम
मेरे होठों की हँसी हो तुम
मैं तुम्हें भला क्या नाम दूँ
मेरे नाम की शुरुआत हो तुम।।

मेरी आँखों की रोशनी हो तुम
मेरे चेहरे की रौनक हो तुम
तुम्हें मालूम ही नहीं शायद
मेरा आज और कल हो तुम।।

मेरे रहने का ठिकाना हो तुम
मेरे खतों का जवाब हो तुम
दुनिया कुछ भी कहती हो पर
इस राजा की रानी हो तुम।।

—————————————————————————————————————–

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हेंमोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें”

1}
जिद थी उसकी तुम्हें हासिल करना
जिद थी उसकी तुम्हें शायरी में लिखना
उसका नसीब ही लेकिन कुछ ऐसा था
उसके हाथों में टूटा हुआ मोहब्बत का ख्वाब था।।

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हें
मोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें……

2}
तुझे हासिल करने में उसने अपना सब कुछ खोया
किसी ने उसे पागल कहा तो किसी ने आवारा कहा
जिद उसकी फिर भी एक ही ख्वाइश पर अड़ी थी
जिसे वो हद से ज्यादा चाहता था वो लड़की सिर्फ तुम थी।।

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हें
मोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें…..

3}
मोहब्बत तो तू भी उसकी समझ नहीं पाई
उसकी आँखों के आँसू तू देख नहीं पाई
उसने तुम्हें कभी उस नजर से नहीं देखा
जिस नजर से दुनिया ने तुम्हें देखा।।

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हें
मोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें……

4}
आज भले ही वो तुमसे दूर है
लेकिन उसके दिल में आज भी तू है
वो तो तुम्हें मोहब्बत की देवी समझता है
कह नहीं पाया लेकिन, मोहब्बत तुम्हीं से करता है।।

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हें
मोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें……

5}
कहानियाँ तुमने मोहब्बत की बहुत सुनी होगी
लेकिन ये वो कहानी है जो कभी हकीकत हुआ करती थी
मोहब्बत में वो तेरी इस कदर पागल हो जाता था
कभी दोस्तों को भूल जाता था, कभी खुद को भूल जाता था।।

एक शायर की कहानी, सुनाता हूँ तुम्हें
मोहब्बत करता था तुमसे, गुनगुनाता था तुम्हें……

दोस्ती बनाम प्यार

तुम्हारी चाहत में हम, खुद को भूल गए
तुझे मनाने में हम, दोस्तों को भूल गए
याद कुछ रहा ही नहीं, तुम्हारे इश्क़ में
मग़र हम फिर भी, दोस्तों को याद रहे।।

तबीयत अच्छी हो तो, सब अच्छा लगता है
प्रेमिका अच्छी हो तो, प्रेम अच्छा लगता है
तुम्हारे संग रह तो लेता, जिंदगी भर लेकिन
दोस्तों के संग रहना, मुझे अच्छा लगता है।।

हर एक कहानी में कोई किरदार होता है
हर किसी के दिल में सच्चा प्यार होता है
तू भूल ना जाना मुझे अपने दिल से, ऐ-दोस्त
मेरी हर कहानी में तेरा ही नाम होता है।।

मेरी हर कोशिश में, तेरी ख़ुशी है मेरे दोस्त
ना मैं बदलूँगा, ना तुम बदलना मेरे दोस्त
प्यार, मोहब्बत, इश्क़, कुछ भी कर लेना
मगर दोस्तों को भूलना,जुर्म है मेरे दोस्त।।

सच्ची मोहब्बत किसे कहते हैं, ये तो मूझे मालूम नहीं
पर दोस्ती क्या है, इसका तुझे ज़रा सा भी अंदाजा नहीं
किसी को खोकर फिर से पाना, भले ही प्यार का नाम हो
पर सुख दुःख में जो साथ रहे, ऐसी दोस्ती सबके नाम हो। ——- ११ अक्टूबर २०१९

——————————————————————————————————————

है एक अजनबी

मुझे नशा है, उसके इश्क़ का
मैं तो आवारा हूँ, उसकी गलियों का
वो समझे या ना समझे, मेरे प्यार को
मैं तो दीवाना हूँ, उसके भोलेपन का।।

लिखना तो आता है मुझे, उसके इश्क़ में
मगर कहाँ से शुरु करूँ, ये मालूम नही
वो प्यार तो करती है बेहिंता, मुझसे
मगर पूछुं किससे, ये मालूम नही।।

मुझे उसके चेहरे से प्यार नहीं

मैं तो उसकी सादगी पर मरता हूँ
आवाज उसकी कैसी भी लगे दुसरो को
मैं तो उसकी मंद-मंद मुस्कान पर मरता हूँ।।

प्यार में वो मुझे मिले या ना मिले
मेरा दिल तो प्यार उससे ही करेगा
वो मुझे चाहकर भी भूल जाये भले
मेरा दिल तो उसको ही याद करेगा।।

हर बार यही उम्मीद रहती है दिल में
मिल जाऊँ उसे किसी मोड़ पे, मैं
बहुत सी बातें छुपा रखी हैं दिल में
कह दूँगा उसे, उसी मोड़ पे, मैं ।। ११ अक्टूबर २०१९

———————————————————————————————-

हिंदी

दिल में जो अरमान जगें हैं उसे हम हिंदी में सुनायेंगे
दिल हिंदी से लगाया है तो हिंदी से ही निभायेगें।।

आजकल अंग्रेजी को ही सब कुछ माना जाता हैं
मगर हम हिंदुस्तानी हिंदी को ही अपनी भाषा मानेंगे।।

जिसे अंग्रेजी को अच्छा समझना है वो समझे
मगर हम तो हिंदी से ही अपनी पहचान बनाएंगे।।

जिसे हिंदी बोलने में शर्म आती हैं उसे आने दो
हम तो हिंदी को मरते दम तक गुनगुनायेंगे।।

हम ये नहीं कहते कि अंग्रेजी अच्छी भाषा नहीं
होगी मगर हिंदी से ज्यादा खूबसूरत नहीं।।

और सुनो, वो शख्स भी अंग्रेजी के लायक नहीं
जिसके दिल में हिंदी के प्रति मोहब्बत नहीं।।

जिसे युगों युगों से गाया गया, ये वो ही हिन्दुस्तान हैं
हिंदी सिर्फ एक भाषा ही नहीं, हमारी पहचान हैं।।

अंग्रेजी को ही सीखकर हम मुक्कमल नहीं हो सकते
जिसने हिंदी को नहीं जाना, वो हिंदुस्तानी नहीं हो सकते।।

हमें हमेशा एक बात याद रखनी चाहिए
दिल में हिंदुस्तान और होठों पर हिंदी होनी चाहिए।।

चाहकर भी हम हिंदुस्तान का कर्ज अदा कर नहीं सकते
हिंदी दिल में बसी हैं उससे हम जुदा हो नहीं सकते।।

जिंदगी हमें मिली हैं उसे हम यूँ ही बर्बाद क्यों करे
हिंदी हमारी भाषा हैं इससे हम इंकार क्यों करे।।

हमें तो हिंदी भाषा में हिंदुस्तान नजर आता हैं
कोई बोले या ना बोले, हमें तो हिंदी में बोलना आता हैं।।

हकीकत छुपाने से कभी कुछ नहीं मिलेगा
हिंदी हमारी भाषा है, ये सच कभी नहीं बिकेगा।।

हर उम्मीद, हर वादे पर, हम खरा उतर कर दिखाएंगे
हिंदी को हम दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाएंगे।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *