रचनाकार रजनी शर्मा

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
हिंदी साहित्य सेवा मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय: रचनाकार रजनी शर्मा उत्तरी दिल्ली नगर निगम में अध्यापिका के पद पर कार्यरत हैं। इनका कहना है कि ये प्रत्येक वर्ष अपने विद्यार्थियों को योग प्रतियोगिता में हिस्सा दिलाकर उन्हें शिक्षा विभाग द्वारा पुरस्कृत कराकर असीम आनन्द की अनुभूति करती हैं| पुरस्कार प्राप्त करते हुए खिलखिलाते हुए चेहरे इन्हे बहुत भाते हैं। रचनाकार रजनी शर्मा एक राज्य पुरस्कार विजेता हैं ।

———————————————————-

“योग साधना”

योग साधना करते हैं हम
निज स्वास्थ्य संवारे हम।
भले बुरे का ज्ञान कराते,
जीवन में परिवर्तन लाते।
ब्रह्म चेतना से मेल कराकर,
योग साधना करते हम………..
स्वार्थ से परमार्थ में जाएं,
संतोष धन नित्य ही पाएं।
विनय, विवेक से सफल होकर,
आंतरिक शुद्धि करते हम।
योग साधना करते हम…….
तन मन से बलशाली बनते,
आत्म शांति की प्राप्ति करते।
स्वास्थ्य का उपहार है देकर,
मन कर्म से अनुशासित रहते।
मंगल कामना करते हम,
योग साधना करते हम…….
योग से हम निरोग हो जाते,
उपयोगी बनकर स्नेह लुटाते,
सहयोग सदा सभी का करते हम।
योग साधना करते हम,
योग साधना करते हम।