कवि/शायर बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
साहित्यिक मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय: बासुदेव अग्रवाल जी का जन्म २८ अगस्त १९५२ को हुआ | इन्होने बी. कॉम में स्नातक किया है | काव्य की हर विधा में सृजन करते हैं (हर प्रचलित छंद, गीत, नवगीत, हाइकु, सेदोका, वर्ण पिरामिड, गज़ल, मुक्तक, सवैया, घनाक्षरी इत्यादि)| इन्हे हिंदी साहित्य की पारंपरिक छंदों में विशेष रुचि है और मात्रिक एवं वार्णिक लगभग सभी प्रचलित छंदों में काव्य सृजन में सतत संलग्न हैं | वर्तमान में असम प्रदेश के तिनसुकिया नगर में रहते हैं|

———————————————————-

———————————————————–

ग़ज़ल (देते हमें जो ज्ञान का भंडार)

देते हमें जो ज्ञान का भंडार वे गुरु हैं सभी,
दुविधाओं का सर से हरें जो भार वे गुरु हैं सभी।

हम आ के भवसागर में हैं असहाय बिन पतवार के,
जो मन की आँखें खोल कर दें पार वे गुरु हैं सभी।

ये सृष्टि क्या है, जन्म क्या है, प्रश्न सारे मौन हैं,
जो इन रहस्यों से करें निस्तार वे गुरु हैं सभी।

छंदों का सौष्ठव, काव्य के रस का न मन में भान है,
साहित्य के साधन का दें आधार वे गुरु हैं सभी।

चर या अचर जो सृष्टि में देते हैं शिक्षा कुछ न कुछ,
जिनसे हमारा ये खिला संसार वे गुरु हैं सभी।

गीता हो, रामायण हो या फिर दूसरे सद्ग्रन्थ हों,
जो सद्विचारों का करें संचार वे गुरु हैं सभी।

गुरुपूर्णिमा के दिन करें गुरु वृंद का वंदन, ‘नमन’,
संसार का जिनसे मिला है सार वे गुरु हैं सभी। …………………………..१७ जुलाई २०१९ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *