कवि अगम मिश्रा

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
हिंदी साहित्य सेवा मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

जीवन परिचय: कवि अगम मिश्रा मुंबई महाराष्ट्र के रहने वाले हैं |

———————————————————–

कविता

उस रस में तुम पगे नही
अनुराग में भीगे नही
विवेचन हो शैथिल्य का
आप में वो बल नही!

हृदय डमरू है प्रेम का
ओह प्यारे, ये प्यार करे
डमगडमगमन्निनाद!
ओह प्यारे, ये गर्जन है ओजपूर्ण
दृश्य है चकारचण्डताण्डवं!

तुझमे मनुष्यता का सदज्ञान नही
तू अपकारी है, उपकारी नही
तेरी बातें, खाली बातें, भाव का चित्रण नही।
जो उत्साह का वध करे
वो उत्साह वर्धक नहीं!

शब्दकोश हृष्ट-पुष्ट
इन्द्रियाँ जस की तस
अति क्षीण तेजस
निराशी सोचत-विचारत।

आन्दोलन में प्रवृत नही
चिंतामणि सुखी नही
विवेचन हो शैथिल्य का
आप में वो बल नही!