आकांक्षा यादव

हिंदी साहित्य सेवा डॉट कॉम
साहित्यिक मंच – सेवा हिंदी साहित्य की
www.hindisahityaseva.com

30 जुलाई, 1982 को सैदपुर (गाजीपुर, उ.प्र.)में जन्म। कॉलेज में प्रवक्ता। साहित्य, लेखन और ब्लॉगिंग के क्षेत्र में भी प्रवृत्त। नारी विमर्श, बाल विमर्श और सामाजिक मुद्दों से सम्बंधित विषयों पर प्रमुखता से लेखन। लेखन-विधा- कविता, लेख, लघुकथा एवं बाल कविताएँ। अब तक 3 पुस्तकें प्रकाशित- ‘आधी आबादी के सरोकार’ (2017), ‘चाँद पर पानी’ (बाल-गीत संग्रह-2012) एवं ‘क्रांति-यज्ञ : 1857-1947 की गाथा’ (संपादित, 2007)।

देश-विदेश की प्रायः अधिकतर प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर वेब पत्रिकाओं व ब्लॉग पर रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। व्यक्तिगत रूप से ‘शब्द-शिखर’ और युगल रूप में ‘बाल-दुनिया’, ‘सप्तरंगी प्रेम’ व ‘उत्सव के रंग’ ब्लॉग का संचालन। 60 से अधिक प्रतिष्ठित पुस्तकों/संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित। आकाशवाणी से समय-समय पर रचनाएँ, वार्ता इत्यादि का प्रसारण। व्यक्तित्व-कृतित्व पर डॉ. राष्ट्रबंधु द्वारा सम्पादित ‘बाल साहित्य समीक्षा’ (नवम्बर 2009, कानपुर) का विशेषांक जारी।

उ.प्र. के मुख्यमंत्री द्वारा ’’अवध सम्मान’’, परिकल्पना समूह द्वारा ’’दशक के श्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगर दम्पति’’ सम्मान, अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन, काठमांडू में ’’परिकल्पना ब्लाग विभूषण’’ सम्मान, अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन, श्री लंका में ’’परिकल्पना सार्क शिखर सम्मान’’, विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ, भागलपुर, बिहार द्वारा डॉक्टरेट (विद्यावाचस्पति) की मानद उपाधि, भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ’’ डॉ. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान’’, ‘‘वीरांगना सावित्रीबाई फुले फेलोशिप सम्मान‘‘ व ’’भगवान बुद्ध राष्ट्रीय फेलोशिप अवार्ड’’, राष्ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ’’भारती ज्योति’’, साहित्य मंडल, श्रीनाथद्वारा, राजस्थान द्वारा ”हिंदी भाषा भूषण”, ‘‘एस.एम.एस.‘‘ कविता पर प्रभात प्रकाशन, नई दिल्ली द्वारा पुरस्कार, निराला स्मृति संस्थान, रायबरेली द्वारा ‘‘मनोहरा देवी सम्मान‘‘, साहित्य भूषण सम्मान, भाषा भारती रत्न, राष्ट्रीय भाषा रत्न सम्मान, साहित्य गौरव सहित विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा विशिष्ट कृतित्व, रचनाधर्मिता और सतत् साहित्य सृजनशीलता हेतु 50 से ज्यादा सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त। जर्मनी के बॉन शहर में ग्लोबल मीडिया फोरम (2015) के दौरान ‘पीपुल्स चॉइस अवॉर्ड’ श्रेणी में आकांक्षा यादव के ब्लॉग ‘शब्द-शिखर’ को हिंदी के सबसे लोकप्रिय ब्लॉग के रूप में भी सम्मानित किया जा चुका है। आकांक्षा जी वर्तमान में लखनऊ उत्तरप्रदेश में रह रही हैं |

—————————————————–

वजूद

मुझे नहीं चाहिए
प्यार भरी बातें
चाँद की चाँदनी
चाँद से तोड़कर
लाए हुए सितारे।

मुझे नहीं चाहिए
रत्नजडि़त उपहार
मनुहार कर लाया
हीरों का हार
शरीर का श्रृंगार ।

मुझे चाहिए
बस अपना वजूद
जहाँ किसी दहेज, बलात्कार
भ्रूण हत्या का भय
नहीं सताए मुझे।

मैं उन्मुक्त उड़ान
भर सकूँ अपने सपनों की
और कह सकूं
मेरा भी स्वतंत्र अस्तित्व है।

——————————————————————————————————————-

मैं अजन्मी

मैं अजन्मी
हूँ अंश तुम्हारा
फिर क्यों गैर बनाते हो
है मेरा क्या दोष
जो, ईश्वर की मर्जी झुठलाते हो
मै माँस-मज्जा का पिण्ड नहीं
दुर्गा, लक्ष्मी औ‘ भवानी हूँ
भावों के पुंज से रची
नित्य रचती सृजन कहानी हूँ
लड़की होना किसी पाप की
निशानी तो नहीं
फिर
मैं तो अभी अजन्मी हूँ
मत सहना मेरे लिए क्लेश
मत सहेजना मेरे लिए दहेज
मैं दिखा दूँगी
कि लड़कों से कमतर नहीं
माद्दा रखती हूँ
श्मशान घाट में भी अग्नि देने का
बस विनती मेरी है
मुझे दुनिया में आने तो दो।

———————————————————————————————————–

हमारी बेटियाँ

हमारी बेटियाँ
घर को सहेजती-समेटती
एक-एक चीज का हिसाब रखतीं
मम्मी की दवा तो
पापा का आफिस
भैया का स्कूल
और न जाने क्या-क्या।
इन सबके बीच तलाशती
हैं अपना भी वजूद
बिखेरती हैं अपनी खुशबू
चहरदीवारियों से पार भी
पराये घर जाकर
बना लेती हैं उसे भी अपना
बिखेरती है खुशियाँ
किलकारियों की गूँज की ।
हमारी बेटियाँ
सिर्फ बेटियाँ नहीं होतीं
वो घर की लक्ष्मी
और आँगन की तुलसी हैं
मायके में आँचल का फूल
तो ससुराल में वटवृक्ष होती हैं
हमारी बेटियाँ ।

—————————————————————————————————

लघु कथा / बच्चा

इन बच्चों को भी कौन समझाये? सारा सामान उलट-पुलट कर रख दिया है। उधर संपादक भी रट लगाए है कि इसी महीने उसे बाल कविताएं चाहिए ताकि अगले अंक में बाल-दिवस पर प्रकाशित कर सके। एक-एक लाइन लिखने में कितना दिमाग खपाना पड़ता है, पर लय है कि बनती ही नहीं।

……..अजी, सुन रही हो- ”एक कप चाय तो पिला दो।” अब कुछ मूड बन रहा है लिखने का- ”बच्चों पर लिखना कितना रोचक लगता है आखिर वे इतने भोले व मासूम होते हैं। जग की सारी खुशियाँ उनकी किलकारियों से जुड़ी होती है।”

इस बीच पत्नी मेज पर चाय रखकर जा चुकी थी। वह अपनी बाल-कविता की लय बनाने में मशगूल थे। तभी उनके छोटे पुत्र बाहर से खेलकर आए और आते ही पापा की गोद में लपक पड़े। इधर साहबजादे पापा की गोद में लपके और उधर सारी चाय उनकी बाल कविता पर गिरकर फैल गई।

अपनी बाल कविता के इस हश्र पर उन्होंने आव देखा न ताव और तड़….तड़……तड़ कर तीन-चार थप्पड़ बेटे के गाल पर जड़ दिए। पापा के इस व्यवहार पर बेटा जोर-जोर से रोने लगा।

अब वे पत्नी पर बड़बड़ा रहे थे- ”एक बच्चे को भी नहीं संभाल सकती। घर में बैठकर क्या पता कि एक कविता लिखने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है।”

सकपकायी हुई पत्नी कभी बच्चे का चेहरा देखती तो कभी पति महोदय की बाल कविता।

————————————————————————————————————

लघुकथा / अवार्ड का राज

पूरे आफिस में चर्चायें आरंभ हो गई थीं कि इस साल बेस्ट परफार्मेन्स का अवार्ड किसे मिलेगा? बात सिर्फ अवार्ड की नहीं थी, उसके साथ प्रमोशन भी तो जुड़ा था। हर कोई जुगत लगाने में लगा था कि किसी प्रकार यह अवार्ड उसे मिल जाए।

उसे तो आए हुए अभी ज्यादा दिन भी नहीं हुए थे, पर उसके कार्य करने के तरीके व ईमानदारी की चर्चा सर्वत्र थी। जब भी कोई मीटिंग होती तो बास उसे शाम को रोक लेते और वह बड़े करीने से सभी एजेंडों के लिए नोट्स लिखकर फाइनल कर देता। बास भी उसकी कार्य-शैली व तत्परता से प्रभावित थे। उसे लगता कि अवार्ड तो उसे ही मिलेगा।

पर जब अवार्ड की घोषणा हुई तो उसका नाम नादारद था। उसे मन ही मन बहुत बुरा लगा। शाम को बुझे मन से वह घर जाने के लिए उठा। जब वह बास के चैम्बर के सामने से गुजरा तो अंदर से आ रही आवाज सुनने के लिए अनायास ही ठिठक गया।

…“जबसे मैं यहाँ आया हूँ, तुमने हमारी बहुत सेवा की है। तुम भी तो हमारी जाति के हो। तुमसे तो हमारी धर्मपत्नी और बच्चे भी बहुत खुश रहते हैं। जब भी उन्हें मार्केटिंग इत्यादि के लिए जाना होता है, तुम्हीं को याद करते हैं। आखिर कुछ तो खूबी है तुममें।..और हाँ, पिछले महीने निरीक्षण के लिए आई टीम की तुमने इतनी अच्छी आवाभगत की, कि वह तो होटल के कमरों से बाहर निकले ही नहीं और वहीं पर निरीक्षण की खानापूर्ति कर चले गए।..अच्छा यह बताओ, सारे बिल तो मैनेज हो गए..अगले महीने बेटे का बर्थडे है, उसके लिए भी तो तुम्हें ही प्रबंध करना है।‘’

यह कहते हुए बास ने जोरदार ठहाका लगाया। अब उसे अवार्ड का राज समझ में आ चुका था।

————————————————————————————————————-

लघुकथा / बड़ा आदमी

राम सिंह ने अपने इकलौते बेटे को बड़ी शानो-शौकत के साथ पाला। गर्व से मित्रों को बताते कि बड़ा आदमी बनने हेतु कैसे उन्होंने गाँव के घर को छोड़ा और यहाँ शहर में सेटल हो गए। इकलौते बेटे को लेकर उनकी तमाम अपेक्षाएँ भी थी और सपने भी। जब वह सफल हुआ तो उनके दोनों हाथ में लड्डू थे। अपने से बड़े घर के लड़की से उसकी शादी की और जमकर दहेज भी लिया।

जिंदगी आराम से गुजर रही थी कि एक दिन अपने बेटे को मित्रों से कहते सुना-”यदि बड़ा आदमी बनना है तो यह शहर छोड़ किसी महानगर में बसना होगा। यहाँ तो अब दम घुटता है।”

अचानक उनकी आँखों के सामने अंधेरा छा गया और जेहन में वह दिन तैरने लगे, जब बड़ा आदमी बनने हेतु उन्होंने माता-पिता को गाँव में अकेला छोड़कर शहर में बसने का फैसला किया था।