हिंदी साहित्य सेवा मंच का उद्देश्य हिन्दी साहित्य को बढ़ावा देना है, यदि आप की रुचि हिन्दी कविताएँ, गीत, ग़ज़ल, हिंदी कहानियाँ, कथाएँ इत्यादि लिखने और पढ़ने में है तो आप इस समूह से जुड़कर हिन्दी साहित्य को आगे बढ़ाने में हमारी मदद करें | हिन्दी विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। हिंदी में तीन प्रकार का साहित्य मिलता है गद्य, पद्य, और चम्पू। पद्य काव्य का एक भेद है जिसमे मनोभाव को कलात्मक रूप से किसी भाषा के द्वारा अभिव्यक्त किया जाता है। रचनात्मक प्रक्रिया को ध्यान में रखते हुए छंदरहित साधारण व्यवहार की भाषा को गद्य कहा जाता है। चम्पू श्रव्य काव्य का एक भेद है, अर्थात गद्य-पद्य के मिश्रित् काव्य को चम्पू कहते हैं।

आप स्वरचित रचनाएँ हमें hindisahityaseva@gmail.com या फिर व्हाट्सएप्प नंबर ९७६९४२९७०४ पर भेज सकते हैं, उसे हम यहाँ प्रकाशित करेंगे | हिन्दी लेखन के अपने अनुभव को लोगों के साथ साझा करिए |

———————————————————–

ऑनलाइन काव्यपाठ



———————————————–

“साहित्य सेवा – डिजिटल साहित्यिक पत्रिका – १४ सितंबर २०२०”

———————————————————–

“प्रशस्ति पत्र”

———————————————————–

यदि आप एक लेखक/साहित्यकार हैं और आपकी कोई पुस्तक/काव्य/महाकाव्य/उपन्यास का प्रकाशन हो चुका है तो आप उसका प्रचार विज्ञापन के माध्यम से यहाँ पर कर सकते हैं जिसका शुल्क बहुत ही कम है | इस तरह आप हिंदी साहित्य सेवा मंच को चलाने में हमारा सहयोग भी कर सकते हैं |व्हाट्सएप्प नंबर ९७६९४२९७०४ या फिर मेल hindisahityaseva@gmail.com पर संपर्क करें |

काव्य “नारी अपमान” को खरीदने का लिंक –

इस वेबसाइट पर प्रकाशित रचनाओं/विज्ञापन से संपादक/संचालक की व्यक्तिगत सहमति आवश्यक नहीं | प्रकाशित रचनाओं के किसी भी उपयोग से पहले रचनाकार और संपादक की अनुमति आवश्यक है | रचनाकारों के अनुसार उनकी रचनाएँ स्वरचित हैं, किसी भी उल्लंघन के लिए वेबसाइट का संपादक/संचालक जिम्मेदार नहीं | कानूनी विवाद होने पर इसके निबटारे का न्याय क्षेत्र -मुंबई में ही होगा |